Posts tagged ‘अछि



मैथिलीमे नव ब्रााह्मणवादपर पहिल बेर समधानि कऽ प्रहार कऎल गेल अछि, यएह कारण अछि जे “राड़केॅ सुख बलाय”क लेखक आ साहित्यिक चोरक (http://esamaad.blogspot.in/2014/02/blog-post_6.html) चमचागिरी करबाक आवश्यकता प्रदीप बिहारी, श्याम दरिहरे आ रमानन्द रमणकेॅ पड़लन्हि।प्रदीप बिहारी, श्याम दरिहरे आ रमानन्द रमणक… Read more →

कलकत्ता. कोलकाता स्थित क्षेत्रीय कार्यालय मे भोरे १० बजे सं साहित्य अकादेमी द्वारा परिसंवाद ओ लेखक सं भेंट कार्यक्रम आयोजित भेल. कार्यक्रम चारि सत्र मे भेल. कोलकाता केर मैथिली प्रेमी लोकनि एहि कार्यक्रम मे नीक संख्या मे उपस्थित भेलाह. उद्घाटन सत्र मे साहित्य अकादेमी केर विशेष कार्य अधिकारी एन.सी. महेश स्वागत कयलनि आ सत्र केर अध्यक्षता […]

कलकत्ता. मैथिली सिनेमाक नीक दिन घूरि रहल अछि. लगातार बहुत रास फ़िल्म बनबाक संगहि मैथिली सिनेमाक समक्ष हॉलक समस्या केर समाधान भ’ गेल अछि, एहना बुझना जाइत अछि. किछु दिन पहिने रिलीज़ भेल मैथिल फ़िल्म  ‘सौतिनक बेटी’ केर एक संग सात-आठटा हॉलमे प्रदर्शित होयब अपना आपमे एकटा पैघ उपलब्धि अछि. प्राप्त सूचनाक अनुसार ई फ़िल्म […]

सीतामढ़ी। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार कहला अछि जे मां सीताक दर्शन मात्र स वर्षा होइत अछि। जाहि ठाम मां सीता क जन्म हो ओहि ठाम अकाल नहि पड़ि सकैत अछि। हमरा विश्वास अछि जे मां सीता एक बेर फेर वर्षा क मांग पूरा करतथि। मुख्यमंत्री बुधदिन सीतामढ़ी स्टेशन परिसर मे पर्यटन विभाग, राज्य सरकार आ बिहार […]

नई दिल्ली : लगभग छः सौ साल पहिने लिखल विद्यापति रचित नाटक मणिमंजरी क पहिल मंचन कए मैलोरंग अपन बढैत डेग साबित करबा में सफल रहल। किर्तनिया शैली में लिखल प्रथम श्रेणी प्राप्त एही नाटक क मंचन एहि से पहिने कतहूँ भेल छल तकर प्रमाण अखैन धरि सोझा नै आयल अछि। ताहि लेल मैलोरंग लेल […]

सात सौ करोड़ क एहि परियोजना स भेटत 25 हजार लोक कए रोजगार पटना/भागलपुर : मेगा फूड पार्क लेल 80 एकड़ जमीन ताकल जा रहल अछि। फ्रूटी नामक पेय बनेनिहारि कंपनी केवेंटर एग्रो लिमिटेड क एहि परियोजना लेल राज्यक कईटा जिला दावेदार अछि। करीब सात सौ करोड़ क एहि परियोजना स 25 हजार स बेसी […]

हाथ स निकलि सकैत अछि 25 करोड़ क योजना पटना/भागलपुर : भागलपुर जिलाक कहलगांव मे हैंडलूम पार्क लगबाक संभावना लगभग खत्म भेल जा रहल अछि। हैंडलूम पार्क लेल कहलगांव मे जे जमीन बियाडा तय केने छल ओ उद्यमी कए नहि दिया सकल। हैंडलूम पार्क करीब 25 करोड़ क योजना अछि। एकरा वाणिज्य मंत्रालय सेहो स्वीकृति […]

मिथिला लेल जे सहायक छल ओकरा मिथिला क प्रतिद्वंद्वी बना देल गेल आशीष झा आखिरकार आंध्रप्रदेश स अलग भ देशक 29म राज्य क रूप में तेलंगाना क गठन क बाट साफ भ गेल। अगिला दू मास मे इ नव राज्य देशक नक्शा पर आबि जाएत। यूपीए समन्वय समिति आ कांग्रेस कार्य समिति तेलंगाना क संग […]

मिथिला गौरवमयी संस्कृतिक इतिहास अपन इतिहास अपन आॅचर मे अनेको लोक पर्व के समेटने अनुपम लोक गाथाक सनेष दैत रहल अछि। एहि लोक पर्वक कड़ी मे श्रावण मास मे नव बिबाहित द्वारा मनाओल जाय बला पावनि अछि – ‘मधुश्रावणी’। ‘मधुश्रावाणी’ मुख्यतया मिथिलांचलक ब्राह्मण ओ कर्ण-कायस्थ परिवारक नव विवाहित स्त्री द्वारा अपन सुहागक रक्षा हेतु मनाओल […]

तिरहुत सरकार राजा नरेंद्र सिंह करीब 500 साल पूर्व मिथिला क आर्थिक समृद्धि लेल पग-पग पोखरि माछ-मखान क नारा देने छलाह। कालातंर मे इ आर्थिक नारा सांस्कृतिक नारा भ गेल आ बाढि स बचबा लेल बनल पोखरि महज जल संग्रह क स्थान बनि गेल। सांस्कृतिक रूप स समाज मे माछ क विशेष स्थान त एखनो […]

Page 1 of 712345...Last »

About Mithila

Mithila is an ancient cultural region of South Nepal and North India lying between the lower ranges of the Himalayas and the Ganges River. The Nepal border cuts across the top fringe of this region. The Gandak and Kosi Rivers are rough western and eastern boundaries of Mithila. The Ramayana records a dynastic marriage between Prince Rama of Ayodhya and Sita, the daughter of Raja Janak of Mithila. The town of Janakpur, in the northern Nepali section of Mithila, is believed to be Janak's old capital.


Total Visitors from 1998