images?q=tbn:ANd9GcQj6ObjRxZnI4CMbs_jmLF3CwvRUZSh11OWqoYgI2W3EaW1JJgySHvSEG47yUDDGxi7cEDoBoeD अयोध्या में इतिहास की सबसे बड़ी दिवाली के बाद अब जनकपुर में बजेगी राम–सीता की शहनाईं - Patrika
Patrika

 अयोध्या में इतिहास की सबसे बड़ी दिवाली के बाद अब जनकपुर में बजेगी राम–सीता की शहनाईं - Patrika
अयोध्या में इतिहास की सबसे बड़ी दिवाली के बाद अब जनकपुर में बजेगी राम–सीता की शहनाईं
Patrika
राम जानकी विवाह महोत्सव में नेपाल और भारत के साथ ही अन्य राष्ट्रों के पर्यटक भी शामिल होते हैं। काठमांडु। मिथिला की प्राचीन राजधानी जनकपुर में भगवान राम-सीता के विवाह महोत्सव की तैयारियां पूरी हो चुकी हैं। जनक नंदनी सीता के विवाह वाले दिन को याद करते हुए मिथिलावासी इस पर्व को विशेष महोत्सव के रूप में मनाते हैं। राम जानकी विवाह महोत्सव में नेपाल और भारत के साथ ही अन्य राष्ट्रों के पर्यटक भी शामिल होते हैं। Ram sita marriage. गुरुवार को होने वाले विवाह समारोह में भारत के अयोध्या से बारात आएगी। राम-सीता के वैवाहिक समारोह में शामिल होने के लिए जनकपुर में श्रद्धालुओं का तांता लगा है। गौरतलब है कि त्रेता युग में मिथिला नरेश जनक ने अपनी पुत्री

Leader Mahato who is competing in the federal election from the Dhanusha constituency no. 3, went on to say the people of Madhes would in this elections give a lesson to those who deceived them in return to the trust and votes of the Madhesi people.

Ensuing, the sage took the prince of Ayodhya to Mithila. At the same time, King Janaka, the ruler of Mithila was conducting a contest to choose the right match for his daughter Sita. Devi Sita was the daughter of King Janak was born in the ancient city of …

The setting for the marriage between Lord Ram, king of Ayodhya, and Goddess Sita, princess of ancient Mithila in Janakpurdham, has been decorated, while other preparations are in full swing, said the organising committee. Vivah Panchami, also known as Ram …

images?q=tbn:ANd9GcRk3Zk8vFA0NQIT5xvE2wJhWKPp-bxNVbpVcSgKAcgAJLRlO2ZGhcAOgY-nN7ETPooAqpWufA मैथिली के माध्यम से विज्ञान का संचार - दैनिक जागरण
दैनिक जागरण

 मैथिली के माध्यम से विज्ञान का संचार - दैनिक जागरण
मैथिली के माध्यम से विज्ञान का संचार
दैनिक जागरण
1985 में उन्होंने मैथिली में विज्ञान से संबंधित पत्रिका का प्रकाशन किया। यह मासिक मैथिली पत्रिका है। इसका नाम बसात है। इसके बाद से मैथिली में विज्ञान की पुस्तकों के लेखन व अनुवाद का सिलसिला जारी रहा। इंटर से लेकर पीजी तक के छात्र-छात्राओं के लिए रसायन से संबंधित पुस्तक मैथिली में लिखी। पुस्तक का नाम मैथिली अकार्बनिक गुणात्मक विश्लेषण है। नौवीं व दसवीं के छात्रों के लिए उन्होंने मैथिली माध्यमिक रसायन भाग एक लिखा। इसके बाद देश के प्राचीनतम व आधुनिक कुल 26 वैज्ञानिकों की जीवनी मैथिली में लिखी। पुस्तक का नाम भारत भाग्य विधाता भाग एक है। फिर रसायन की …

Of elections in neighbouring Nepal

Posted on: Tuesday, Nov 21, 2017

The Madhesi Rashtriya Janata Party (RJP) and the Federal Socialist Forum, in alliance are supporting the Democratic Alliance. The Left alliance was curiously born when Prachanda was part of the first ever Right-Left coalition Government during the festive …

Himalayan upgrade

Posted on: Tuesday, Nov 21, 2017

The 240-year-old institution of the monarchy was abolished. Two new political forces emerged, the Maoists with 229 seats in the CA and the Madhesi parties with 80 seats. Differences within the CA led to a stalemate. After 2010, the CA extended its life …

images?q=tbn:ANd9GcQ26MKN1nxWPXnOqzCcB-xbtk2GnQjJ8bcEGiZ1qcXD4d0ReCzlxOlqtf6fnQG0wVIWIY_R0EuU विवाह पंचमी: जनकपुर में 'राजा जनक व 'दशरथ ने किया समधी मिलाप - Hindustan हिंदी
Hindustan हिंदी

 विवाह पंचमी: जनकपुर में 'राजा जनक व 'दशरथ ने किया समधी मिलाप - Hindustan हिंदी
विवाह पंचमी: जनकपुर में 'राजा जनक व 'दशरथ ने किया समधी मिलाप
Hindustan हिंदी
सीताराम विवाहोत्सव पर सीतामढ़ी से लेकर नेपाल के जनकपुर धाम तक धूम मची हुई है। जनकपुर धाम में मंगलवार को राम मंदिर के प्रांगण में धूमधाम से तिलकोत्सव मनाया गया। बुधवार को मटकोर व गुरुवार को विवाहोत्सव होगा। इसके पहले मंगलवार को दोपहर बाद करीब दो बजे जानकी मंदिर से बाजे- गाजे के साथ 501 भार राम मंदिर के लिए चला। भार के साथ जानकी मंदिर के महंत राम तपेश्वर दास बैष्णव और कनिष्ठ महन्त के साथ सैकड़ों साधु सन्त व हजारों श्रद्धालु नगर भ्रमण के बाद राम मंदिर पहुंचे। राम मंदिर के द्वार पर मंदिर के महन्त राम गिरि की अगुवाई में महावीर युवा कमेटी के अध्यक्ष रोशन शेखर व कमेटी के …

और अधिक »

How to Build Up to Eight-Angle Pose

Posted on: Tuesday, Nov 21, 2017

Astavakrasana (Eight-Crooks or Eight-Angle Pose) is named after the sage Astavakra, the spiritual guide to King Janaka of Mithila. As the story goes, before Astavakra was born, his father was reciting the Vedas and made several mistakes. The young sage …

B-School Brigade On Untrodden Paths

Posted on: Tuesday, Nov 21, 2017

Tripathi’s Shiva trilogy is among the fastest selling fiction series in India. The Scion of Ikshvaku was the highest selling book in 2015 and Sita – Warrior of Mithila and Immortal India – Young Country, Timeless Civilisation, have been on the …

Page 2 of 46812345...102030...Last »

About Mithila

Mithila is an ancient cultural region of South Nepal and North India lying between the lower ranges of the Himalayas and the Ganges River. The Nepal border cuts across the top fringe of this region. The Gandak and Kosi Rivers are rough western and eastern boundaries of Mithila. The Ramayana records a dynastic marriage between Prince Rama of Ayodhya and Sita, the daughter of Raja Janak of Mithila. The town of Janakpur, in the northern Nepali section of Mithila, is believed to be Janak's old capital.

Mithila Vivah - Launched

Please click here to visit

Mithila Panchang Updated

Please click here to see current Mithila Panchang and Subh-Din 2017-2018

Categories

Archives